अष्टम दिन: दुर्गा पूजा महोत्सव आखिरी परवान पर, छप्पन भोग लगाया, बाहरी कलाकारों ने दी प्रस्तुति, प्राकृतिक चिकित्सा शिविर आयोजित


रिपोर्ट:- मनीष टांक/इंद्राज योगी
नीमकाथाना। शारदीय नवरात्र महोत्सव समापन की ओर है। नीमकाथाना के जोशी कॉलोनी में आयोजित 16 वें दुर्गा पूजा महोत्सव में मां देवी दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा-अर्चना की गई। सुबह संगीतमय महाआरती में सैकड़ों भक्तों की भीड़ जुटी। देवी के स्वरूप महागौरी को छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ाया गया।
इस बार पूरे नौ दिन का महापर्व
मां दुर्गा को समर्पित पावन त्यौहार नवरात्रि इस साल किसी तिथि में वृद्धि व क्षय नही होने के कारण पूरे नौ दिन तक मनाई जा रही है। कुछ लोग अष्टमी तिथि पर हवन पूजन के साथ कन्या पूजन करते है। विगत 7 दिनों से चल रहा दुर्गा पूजा महोत्सव अब आखरी पड़ाव पर है।
यह है पौराणिक मान्यता
राजा हिमाचल की पुत्री देवी पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए निराहार तपस्या की थी। इससे देवी का शरीर काला पड़ गया था। कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर से शिवजी ने गंगा जल की बूंदों का छिड़काव देवी के शरीर पर किया। जिससे देवी का शरीर दूध के समान उजला हो गया। श्वेत वर्ण के कारण ही इनका नाम महागौरी है।
दुर्गा पूजा पंडाल में लगा आयुर्वेदिक पद्धति पर आधारित जांच शिविर
गायत्री परिवार ट्रस्ट व नारायण आयुर्वेद एवं प्राकृतिक चिकित्सालय के संयुक्त तत्वाधान में जोशी कॉलोनी में आयोजित दुर्गा पूजा पंडाल में आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति पर आधारित नि:शुल्क जांच शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में पेट दर्द, कमर दर्द, रीड की हड्डी दर्द, वात पित्त, गैस, कब्ज का योग व फिजियोथेरेपी के माध्यम से इलाज किया गया।

हरियाणा के कलाकारों ने दी प्रस्तुति
महोत्सव में रात्रिकालीन महा आरती के बाद छप्पन भोग का प्रसाद वितरित किया गया। उसके बाद रेवाड़ी ने आई राजन और साजन ग्रुप ने राधा कृष्ण, मां काली, सुदामा का भव्य प्रस्तुति दी। वहीं भारतीय विद्या आश्रम व मयूर स्कूल के बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देकर श्रद्धालुओं का मन मोहा। इस दौरान पांडाल में भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ रही। 
Previous Post Next Post
  विज्ञापन…