पगड़ी रस्म पर दिया सामाजिक चेतना का संदेश, 3 लाख 51 हजार रूपए भेंट किए

नीमकाथाना: जाट समाज में पगड़ी रस्म के दौरान मृत्युभोज जैसी कुप्रथा को बंद कर समाज सेवा एवं गौ सेवार्थ के लिए सहयोग करने की पहल का स्वागत किया गया। ग्राम गोरधनपुरा में शुक्रवार को बोराण परिवार द्वारा स्वर्गीय मूलचंद बोराण के पगड़ी रस्म के दौरान मृत्युभोज नहीं करने का संकल्प किया गया। जिसका कार्यक्रम में मौजूद समाज के सैकड़ों लोगों का भरपूर समर्थन मिला। पगड़ी की रस्म पर मृत्यु भोज ना कर समाज सेवा एवं गौ सेवार्थ तीन लाख पचास हजार रुपए की राशि भेंट कर  समाज के लिए एक नई मिशाल पेश की। 

पगड़ी रस्म के दौरान स्वर्गीय बोराण के पुत्र समाज सेवी संजय चौधरी, सतीश बोराण एवं परिजनों ने समाज सेवा को लेकर वीर तेजाजी शिक्षण संस्थान जाट छात्रावास अध्यक्ष हरिसिंह गोडावास एवं कार्यकारिणी को 2 लाख 51हजार, गौ सेवार्थ को लेकर गोपाल गौशाला के अध्यक्ष दौलत राम गोयल को 51 हजार रुपए तथा ग्राम गोरधनपुरा में विकास कार्यों को लेकर 51 हजार रुपए समाज सेवा के लिए भेंट किए। 

पगड़ी रस्म कार्यक्रम में विधायक सुरेश मोदी, सुभाष मील खण्डेला, विधायक फूलचंद गुर्जर, भाजपा नेता प्रमोद बाजोर, सरपंच जवाहर सिंह चौधरी, आरएलपी महासचिव मनीष चौधरी, रतनलाल दीवाच, डॉ रणजी जाखड़, राजू ठेहट, दादा प्रभु दयाल शर्मा,  पूर्व प्रधान मदनलाल भावरिया, सरपंच बिरबल काजला, सरपंच विनोद जाखड़, भोलाराम लाम्बा, दयाराम चाहर, दलाराम चौधरी, इन भगवान सिंह लाठर, राजपाल डोई, सरपंच सुरेश खैरवा, रामोतार बड़सरा, नाथूलाल शर्मा, मेजर सरपंच सहित सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने स्वर्गीय बोराण को श्रद्धांजलि अर्पित करी।
Previous Post Next Post
  विज्ञापन…