नीमकाथाना। शादी के बाद विदा होकर लौट रहे दूल्हा-दुल्हन पर गोलीकांड के दोषियों के विरूद्ध शीघ्र कानूनी कार्यवाही को लेकर सोमवार को मानवाधिकार सुरक्षा संगठन भारत इकाई ने मुख्यमंत्री के नाम उपखण्ड अधिकारी साधुराम जाट को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया कि विगत दिनों में समाज कंटकों द्वारा दुल्हा दुल्हन पर फायरिंग किये जाने का आपराधिक कृत्य किया गया है। जिसके कारण महिला एवं आमजन में भय व्याप्त है संगठन ने सरकार से मांग की है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए एवं महिलाओं को तीव्र न्याय मिलने के लिए अलग से फास्ट ट्रेक न्यायालय की स्थापना करवाने तथा महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने हेतु अलग से सेल का गठन किया जाये। जिसके कारण कानून व्यवस्था दुरुस्त हो सके। एवं असामाजिक तत्वों में भी भय व्याप्त हो सके, जिससे भविष्य में महिलाओं पर अत्याचार के मामलों में भी कमी आ सके। राजस्थान राज्य की कानून व्यवस्था कठोर करने हेतु आवश्यक कदम वर्तमान परिदृष्य में उठाया जाना निहायत आवश्यक एवं विधि संगत है। राजस्थान के सभी पुलिस अधिकारियों को पाबंन्द किया जाये कि समय पर पीडित पक्ष की बात सुने तथा उनकी समस्या का समाधान समय रहते हुए करें, जिससे कि भविष्य में ऐसी अमानवीय घटनाएं घटित नहीं हो। यदि दुल्हा दुल्हन प्रकरण में सम्बन्धित पुलिस अधिकारियों द्वारा समय पर ही दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की होती तो ऐसा जघन्य अपराध घटित नहीं होती तथा महिलाओं की मान मर्यादा पर विपरीत प्रभाव नहीं पडता, जो एक बेहद शर्म एवं खेद का विषय है। मानवाधिकार सुरक्षा संगठन, भारत तहसील नीमकाथाना उक्त घटना की कड़े शब्दों में निन्दा करता है। आपराधिक तत्वों को कठोर दण्ड दिया जाए। इस दौरान अन्तेश शर्मा अध्यक्ष उदयपूरवाटी, विनोद कुमार शर्मा महासचिव, नवीन यादव कानूनी सलाहकार, एवं अन्य लोगों मोजूद रहे।

- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।