नीमकाथाना। मुख्यमंत्री एवं डीजीपी ने की सकारात्मक वार्ता 10 दिन का आश्वासन मांगे पूरी नहीं हुई तो होगा फिर उग्र आंदोलन।
 दूल्हा-दुल्हन प्रकरण को लेकर 24 दिसंबर को नीमकाथाना में होने वाले आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री एवं डीजीपी कार्यालय में सकारात्मक वार्ता के बाद एक बार पुनः स्थगित कर दिया गया है। आदिवासी नेता सुरेश मीना, राजेश भाईडा, संवैधानिक विचार मंच संस्थापक गीगराज जोड़ली, छात्र संघ अध्यक्ष विनोद सैनी, सांवलराम यादव आदि ने जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रकरण में अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर नीमकाथाना में आंदोलन किया गया था इस पर पुलिस ने उल्टा निर्दोष न्यायप्रिय आदिवासी नेता सुरेश मीना , बसपा नेता राजेश भाईडा, संवैधानिक विचार मंच के गीगराज जोड़ली छात्र संघ अध्यक्ष विनोद सैनी,विजय माली सहित 160 अन्य लोगो पर कोरोना गाइड की अवहेलना करने का मुकदमा दर्ज किया गया था, इस मुकदमे को वापस लेने सहित,अपराधियों की गिरफ्तारी सहित कई मांगो को लेकर 24 दिसम्बर को आंदोलन होने वाला था। आंदोलन कर रहे प्रतिनिधि मंडल की सरकार के साथ सकारात्मक बात हुई व निष्पक्ष कार्यवाही का आश्वासन दिया गया व 10 दिन का समय मांगा। इस अवधि में मांगे पूरी नहीं हुई तो उग्र आंदोलन होगा जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी सरकार की होगी।

- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।