पंचायत मावंडा कला के ग्राम जाटाला का है मामला,
नीमकाथाना। उपखंड की ग्राम पंचायत मावंडा कला के ग्राम जाटाला में ग्राम विकास अधिकारी, सरपंच, कनिष्ठ तकनीकी सहायक के द्वारा मिलीभगत कर सुरक्षा दीवार एवं इंटरलॉकिंग के बिना किसी निर्माण कार्य के ही साढ़े तीन लाख रूपए राजकीय गबन करने करने का मामला सामने आया है, जागरूक लोगों द्वारा विकास अधिकारी को भी कई बार भ्रष्टाचार को लेकर शिकायत की गई है लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।मंगलवार को ग्राम वासियों द्वारा उपखंड अधिकारी को ज्ञापन देकर राजकोषीय राशि का गबन करने वाले जनप्रतिनिधि एवं कार्मिकों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की। ग्रामीणों ने ज्ञापन में अवगत कराया कि पंचायत मावण्डा कला में ग्राम जाटाला में सुरक्षा दीवार एवं इंटरलॉकिंग खरंजा बौदू राम सैनी के मकान से मैन सड़क की ओर कुंडली जाटाला नाम से प्रशासनिक स्वीकृति AS/ 2017 -18 /10464 जारी की जा चुकी है , जिसके कार्य कोड नंबर WRK /2017 -18 /34400 है । कार्य की तकनीकी स्वीकृति संख्या TS /2017 -18 /15615 व वितीय स्वीकृति संख्या FS /2017-18 /15468 एवं अनुमानित लागत राशि 350000 रू पंचम राज्य वित्त आयोग के अंतर्गत जारी की गई है । लेकिन तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी सुरेश कुमार शर्मा एवं सरपंच राजेंद्र प्रसाद कुमावत ग्राम पंचायत मावण्डा कला तथा कनिष्ठ तकनीकी सहायक मनरेगा सुरेश कुमार पंचायत समिति नीमकाथाना द्वारा मिलकर बिना किसी कार्य का संपादन किए ही साढ़े तीन लाख का गबन किया गया है। इसमें किये गये गबन की जांच को लेकर पूर्व में विकास अधिकारी राजूराम सैनी को लिखित में शिकायत भी की गई थी। लेकिन आज तक दोषियों के खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है। एडवोकेट सुरेश सैनी, नवदीप सैनी, रमेश चंद्र, राजू माली ने उपखंड अधिकारी साधु राम जाट से ग्राम
 जाटाला मैं बिना निर्माण के ही राजकोषीय राशि का गबन करने पर ग्राम विकास अधिकारी, सरपंच एवं कनिष्ठ तकनीकी सहायक पंचायत की जांच कर दोषी व्यक्तियों के खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही कर दोषियों को सजा दिलवाने की मांग की।

विज्ञापनविज्ञापन के लिए संपर्क करें- 9079171692,7568170500

Join Whatsapp Group

नीमकाथाना न्यूज़

The Group Of Digital Neemkathana




- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।