नीमकाथाना। हाथरस गैंगरेप प्रकरण में कई संगठनों के लोगों ने खेतड़ी मोड़ से पंचायत समिति तक रैली निकालकर नारेबाजी कर विरोध जाहिर किया। इसके बाद उपखंड अधिकारी साधुराम जाट को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस जाब्ता तैनात किया गया। संवैधानिक विचार मंच के संस्थापक गीगराज जोड़ली ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। कहा कि 15 दिन बीत जाने के बाद भी पीड़िता को न्याय नही मिल पाना बहुत ही शर्म की बात है। इस दौरान उन्होंने कहा कि जहां सरकार एक तरफ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की बात करती है वही दूसरी ओर बेटियों के साथ आए दिन ऐसी घटनाएं हो रही है।
जिससे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एक नारा ही बन कर रह गया। दूसरी और उन्होंने कहा कि गैंगरेप घटना के बाद सरकार का डरावना चेहरा सामने आया हिंदू रीति रिवाज के अनुसार शव परिवार वालों को दिया जाता है लेकिन शव शासन प्रशासन ने मिलकर रातो रात पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया। इसके साथ ही पुलिस ने 10 दिन तक कोई कार्यवाही नही की यह सबसे बड़ी निदा की बात। उन्होंने मांग की है कि प्रकरण में जो भी आरोपी है उनपर गंभीर धाराओं में कार्यवाही हो और पीड़िता को न्याय मिले। वहीं बसपा नेता राजेश मीणा ने भी घटना की कड़ी शब्दों में निंदा की। कहा कि देश में आए दिन ऐसी घटनाएं सामने आ रही है यह एक बहुत ही चिंता का विषय है। सरकार को ऐसी घटनाओं पर रोक लगानी चाहिए। आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलानी चाहिए जिससे भविष्य में ऐसी पुनरावृत्ति नहीं हो सके। वहीं आस्था जन कल्याण समिति एनजीओ अध्यक्ष जुगल किशोर, शहीद होशियार सिंह सामोता सोशियल वेलफेयर समिति व राष्ट्रीय मानवाधिकार व महिला बाल विकास आयोग की अध्यक्ष कविता सामोता की ओर से भी ज्ञापन सौपा गया। इस दौरान काली मीणा, उमेश मुंडोतिया, अजय टांक, सतपाल भारती, शिवपाल भाटी, छात्रसंघ अध्यक्ष विनोद कुमार सैनी, रविन्द्र डोकन, युवा कांग्रेस जिला महासचिव भूपेंद्र नारनोलिया सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।