👔 Co. Partner- SMP School Kairwali, Bulbul E Recharge Neemkathana

Headlines

नीमकाथाना की 500 महिलाओं ने पानी बचाने और उसकी बर्बादी को रोकने का संकल्प लिया

टोडा के पूठियाला में नवनिर्मित चैक डेम का उद्घाटन, चार डेम और बनेंगे, कई गांवों की महिलाएं पहुँची

नीमकाथाना- मोकलवास के पूठियाला में रविवार को आधा दर्जन गांवों की करीब 500 महिलाओं ने पानी सहेजने व उसकी बर्बादी को रोकने का संकल्प लिया। साथ ही महिलाओं ने यहां के संग्रहित पानी को गंदा करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का ऐलान किया।


उन्होंने कहा, सभी लोगों को मोदी के स्वच्छता अभियान से जुड़ना होगा। इसी से पानी की विभिन्न बीमारियों से बचा जा सकता है। दरअसल रविवार को यहां पहाड़ी इलाके में नवनिर्मित चार चैक डेम का उद्घाटन किया गया। चारों चैक डेम रोटरी क्लब दिल्ली साउथ सेंट्रल व पीएचडीआरडीएफ, नई दिल्ली के सहयोग से बने हैं। उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि डिस्ट्रिक्ट गवर्नर रवि चौधरी, रोटरी क्लब अध्यक्ष मुकेश अग्रवाल थे।

अतिथियों ने लोगों को पानी सहेजने के लिए प्रेरित किया। कहा, आप जल की उपयोगिता को समझें। पानी को संग्रहित करना चाहिए। इससे जल स्तर बढ़ेगा। इससे पूर्व ग्रामीणों ने अतिथियों को साफा व माला पहनाकर स्वागत किया। चैक डेम बनाने पर रोटरी क्लब सदस्यों को सम्मानित भी किया। मोकलवास सरपंच सीताराम ने इलाके की पेयजल समस्या के बारें में जानकारी दी।

कार्यक्रम में रोटरी क्लब के सदस्य राजीव तुलसान, संदीप अग्रवाल, आनंद गोयल, राजेश गोयल, सीएस सारड़ा, ललिता माथुर, दिनेश जैन, एसएस गुलैरी, अरुण, विजय गुप्ता मौजूद रहे। वहीं पीएचडीआरडीएफ की डॉ. कादंबरी, अंजना, मुक्तिनारायण लाल, गोवर्धन, दिनेश, बनवारी शर्मा सहित अनेक लोग मौजूद रहे।



महिलाओं को जागरूक किया

चैक डेम उद्घाटन के बाद यहां महिलाओं की संगोष्ठी हुई। इसमें ग्रामीण महिलाओं को जागरूक किया गया। महिला अधिकारों के बारे में जानकारी दी गई। इसमें बड़ी तादाद में महिलाएं शामिल हुई। इस दौरान सवाल जवाब भी हुए।

चार चैक डेम बने, छह हजार लोगों को फायदा होगा

टोडा के पूठियाला में बने नवनिर्मित चार चैक डेम से करीब छह हजार लोगों को फायदा होगा। यह डेम पहाड़ी तलहटी में बनाए गए हैं। यहां बारिश का पानी रोका जाएगा। इससे क्षेत्र में जल स्तर बढ़ेगा। इसी से पीने का पानी मुहैया हो सकेगा। चैक डेम के निर्माण का 30 फीसदी खर्च भी ग्रामीण उठाते हैं। यहां महिला-पुरुष श्रमदान भी करते हैं। 

No comments