मंदिर भूमि पर चल रहे निर्माण को रूकवाने व अवैध कब्जे को तोड़ने को लेकर एडीएम को शिकायत की

नीमकाथाना:पालिका क्षेत्र के वार्ड नंबर 7 स्थित श्याम मंदिर के सामने मंदिर की बगीची के नाम से भूमि राजस्व रिकॉर्ड में इंद्राज है।उक्त भूमि राजस्व रिकॉर्ड अनुसार शुरू में गोपाल दास के नाम से राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज हुई। गोपाल दास की मृत्यु के बाद हनुमान दास के नाम से राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज है। हनुमान दास की मृत्यु उपरांत बिना कागजी जांच एवं बिना हक एवं अधिकार के महादेव प्रसाद ने उक्त भूमि चार केवल चार वर्ष तक बा जोत करने की गिरदावरी राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज हैं।

बिना जांच एवं बिना हक एवं अधिकार के सत्य नारायण दास चेला गणपत दास के नाम से नामांतरण खोला गया। सत्य नारायण दास से मिलकर प्रॉपर्टी व्यवसाई पालिका प्रशासन से मिलीभगत कर उक्त भूमि पर बिना जांच पड़ताल के पट्टा जारी कर दिया गया। 
हाल ही में पालिका उपाध्यक्ष महेश मेगोतिया उक्त वार्ड का पार्षद एवं पालिका नीमकाथाना उपाध्यक्ष पद पर काबिज होकर अपने पद का दुरुपयोग करते हुए अपने पुत्र सहित अन्य प्रॉपर्टी व्यवसायियों के नाम से फर्जी दस्तावेज तैयार कर अलग अलग नाम से छोटे-छोटे टुकड़ों में पट्टो की निर्माण स्वीकृति आपत्ति जारी कर उक्त भूमि को खुर्द बुर्द करने में लगे हुए हैं। 

शिकायत के माध्यम से मांग है कि उक्त भूमि की जांच कर खसरा नंबर 435 माफी मंदिर भूमि पर निर्माण को रुकवाने अवैध निर्माण तोड़ने को लेकर परिवादी जुगल किशोर ने अतिरिक्त जिला कलेक्टर को अवगत करवाया।

इन नियमों की जांच हो
1.उक्त भूमि खसरा नंबर 435 में शुरुआत गोपालदास के नाम से इंदराज भूमि पर मृत्यु उपरांत हनुमान दास चेला बनकर काबिज हुआ। हनुमान दास की मृत्यु उपरांत बिना आधार बगैर जांच महादेव प्रसाद के नाम से केवल चार वर्ष तक बा जोत करने की गिरदावरी राजस्व रिकॉर्ड में दर्ज हुई। जिसकी जांच होना आवश्यक है। महादेव प्रसाद के बाद बिना हक और अधिकार के सत नारायण दास चेला गणपत दास के नाम से नामांतरण खोला गया। जिसकी जांच होना आवश्यक है। उक्त भूमि पर सत्य नारायण दास चेला गणपत दास ने पालिका प्रशासन से मिलीभगत कर पट्टा भी जारी कर लिया जिसके जांच होना आवश्यक है।


2.उक्त भूमि पर दर्जनों दुकानों का अवैध निर्माण कर दिया गया। चारदीवारी कर लोहे के बड़े गेट लगा दिए गए। सड़क निर्माण की ग्रेवल रोड की जा रही है। जिसकी जांच कर उक्त दुकानों को तोड़ा जावे। जिससे भविष्य में किसी प्रकार की पुनरावृति न हो।
Previous Post Next Post
  विज्ञापन…