जिला अस्पताल में सक्रिय लपका गिरोह के महिला सहित 5 सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़े, कंधे के दर्द को दिखाने आए थे थानाधिकारी



नीमकाथाना। कपिलदेव राजकीय जिला अस्पताल में इन दिनों लपका गिरोह सक्रिय है। गिरोह में पुरुषों सहित महिलाएं भी शामिल है। यह गिरोह गर्भवती महिलाओं सहित अन्य मरीजों को झांसे में लेकर निजी केंद्रों से सोनोग्राफी व अन्य जांचें करवाने के लिए बाध्य करते है। इस कृत्य से गिरोह के सदस्य निजी केंद्रों से मोटा कमीशन वसूल रहे है। गिरोह के सदस्यों का इतना दुस्साहस है कि निजी केन्द्रों पर जांच एक्सरे व सोनोग्राफी के लिए ये लोग रोगियों के हाथों से पर्ची तक छीन लेते हैं। लपका गिरोह से जुड़े लोग अस्पताल में होने वाले निशुल्क सोनोग्राफी के बदले भी कई रोगियों से वसूली कर गरीब लोगों पर दोहरी मार डाल रहे हैं। अस्पताल के अंदर सोनोग्राफी कक्ष के बाहर गेट पर चस्पा नोटिस लपका गिरोह के लिए महज कागज का टुकड़ा साबित हो रहा था, लेकिन मंगलवार को लपका गिरोह के महिला सहित पांच लपके कोतवाली थानाधिकारी बद्री प्रसाद मीणा के हत्थे चढ़ गए। जिनको 151 में गिरफ्तार किया गया।
कंधे के दर्द को दिखाने आए कोतवाल, गिरोह ने आधे पैसों में जांच करवाने को कहा
जानकारी के मुताबिक थानाधिकारी मीणा दो माह पूर्व लगी कंधे की चोट के दर्द को अस्पताल में दिखाने आए थे। चिकित्सक को दिखाने के बाद एक्सरे व दवाई लेने बाहर परिसर में पहुंचे। पीछे से दो लपके उनकी पर्ची को हाथ से लेकर दवाइयां दिलाने व आधे पैसों में जांच करवाने की बात कहीं। जबरन हाथ पकड़कर बाहर निजी लैबों पर ले जाने लगे। पूछताछ करने पर पता चला की ये गिरोह अस्पताल में आने वाले मरीजों को बाहर की जांच करवाने के लिए हाथों से पर्चियां छीनकर ले जाते हैं। इस दौरान महिला सहित दो लपके और पहुंच गए। जिनको जाब्ता बुलाकर महिला सहित पांच लपकों को मौके से गिरफ्तार किया। 

अस्पताल पीएमओ ने कर रखी थी शिकायत
कोतवाल मीणा ने जानकारी देते हुए बताया कि अस्पताल पीएमओ डॉ जीएस तंवर ने थाने में लपका गिरोह पर कार्रवाई करने को लेकर शिकायत दर्ज करवा रखी थी। जिस पर मंगलवार को रामकरण जाट कैरवाली, रामसिंह सैनी चौकड़ी, गजानंद गुर्जर, अरविंद मावंडा खुर्द व दलेलपुरा निवासी मंजू देवी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया।
Previous Post Next Post
  विज्ञापन…  
  विज्ञापन…  
  विज्ञापन…