पाटन वन सीमा में अवैध खनन को लेकर आरटीआई से मांगी सूचना, डीएफओ ने सूचना देने के बजाए झूठे मुकदमें में फंसाने की धमकी दी

नीमकाथाना। आरटीआई से पाटन वन सीमा में अवैध खनन को लेकर सूचना लेने पर वन विभाग के डीएफओ भीवाराम चौधरी द्वारा झूठे मुकदमें के फंसाने व खनन माफियों द्वारा जान से मारने की धमकी देने को लेकर समस्त आरटीआई कार्यकर्ताओं ने एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। स्यालोदडा निवासी आरटीआई कार्यकर्ता अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि पाटन वन क्षेत्र में अवैध खनन को लेकर सूचना दर्ज कराई गई थी। सूचना के बजाय आरटीआई कार्यकर्ता को डीएफओ भीवाराम चौधरी द्वारा झूठा मुकदमा दर्ज कराने की धमकी दी जा रही है तथा अन्य साथियों एवं वन भूमि में अवैध खननकर्ताओं द्वारा जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है। कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया हैं कि उपखण्ड क्षेत्र नीमकाथाना के पाटन क्षेत्र में वन अधिकारी एवं कार्मिकों द्वारा अवैध खनन धड़ल्ले से करवाया जा रहा है। वहीं पाटन के वन क्षेत्र में अवैध खनन माफियों से मासिक बंधी भी ली जाती हैं। जब अवैध खनन की शिकायत करने वाले आरटीआई कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दी जाती हैं। शिकायत में मांग की हैं कि अवैध खनन की मौका रिपोर्ट मंगाई जाए। झूठे मुकदमें में फंसाने वाले वन विभाग डीएफओ भीवाराम चौधरी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करवाई जाए। राजस्थान सरकार आरटीआई कार्यकर्ता का सुरक्षा कानून लागू किया जाए। इस दौरान मनीराम यादव, धर्मपाल सैनी, पूरण यादव, हरिश देवंदा, श्रवण सिंह, जय भगवान शर्मा, कैलाश आदि मौजूद रहे।
Previous Post Next Post
  विज्ञापन के लिए संपर्क करें..…