विधायक दिलावर बोले:- रीट परीक्षा में शिक्षामंत्री व शिक्षा मंत्रालय मिला हुआ, सीबीआई जांच आवश्यक

नीमकाथाना। भाजपा संभाग प्रभारी व रामगंज मंडी से विधायक मदन दिलावर गुरुवार को शक्ति केंद्र व मंडल प्रभारियों की बैठक लेने के लिए नीमकाथाना पहुंचे। जहां भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनका माला व साफा पहनाकर स्वागत किया। दिलावर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। कहा कि केंद्र सरकार किसानों से 2200 रुपए समर्थन मूल्य पर बाजरा खरीदने को तैयार है परंतु राज्य सरकार ने अभी तक केंद्र सरकार को स्वीकृति पत्र जारी नहीं किया है। जिससे केंद्र सरकार राज्य सरकार को 2200 रुपये के हिसाब से राशि स्वीकृत कर सके। राजस्थान सरकार की किसानों को लेकर के यह दोहरी नीति है इसको समझने की आवश्यकता है। केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी करने के लिए इन्हें जीएसटी के दायरे में लाना चाहती है परंतु राजस्थान की राज्य सरकार इसका भी विरोध कर रही है क्योंकि जीएसटी के दायरे में आने से इन्हें उसका टैक्स नहीं मिलेगा और यह सिर्फ टैक्स के खातिर पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी नहीं आने देना चाहते हैं। विधायक दिलावर ने आगे बताया कि रीट परीक्षा के अंदर शिक्षा मंत्री व पूरा शिक्षा मंत्रालय मिला हुआ है पूर्व में भी आरपीएससी  के एग्जाम में शिक्षा मंत्री ने अपने परिजनों को सेलेक्ट करवाया और अब भी रीट में उन्होंने बहुत मोटा पैसा कमाया है इसकी सीबीआई जांच की आवश्यकता है। नीमकाथाना के शिक्षार्थी कोटा, झालावाड़ में जाकर परीक्षा देनी पड़ती है और कोटा का विद्यार्थी झालावाड़ बाड़मेर में जाकर परीक्षा देता है ऐसी कौन सी परिस्थितियां थी या सरकार को इस से कौन सा फायदा होने वाला था, यह सब जांच का विषय है। दिलावर ने पत्रकारों पर राजस्थान में हो रहे हमलों की निंदा करते हुए कहा कि यह सरकार समाज के चौथे स्तंभ को पूरी तरह दबा देना चाहती है जो कि हम नहीं होने देंगे,
लक्षित हिंसा अधिनियम पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि सरकार यह अधिनियम लाकर  हिंदूं समाज पर कुठाराघात करना चाहती है। क्योंकि इस अधिनियम में बहुसंख्यक समाज को ही दोषी माना जायेगा ऐसा प्रावधान है, भाजपा सरकार इसका पुरजोर से विरोध कर रही है।
Previous Post Next Post