शेखावाटी विश्वविद्यालय ने पीजी परीक्षाओं को लेकर बनाया मजाक, परीक्षार्थी हुए परेशान

 


नीमकाथाना। शेखावाटी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षाएं विद्यार्थियों के लिए परेशानियां पैदा कर रही है। बुधवार को एमए इतिहास का पेपर होना था। लेकिन विश्वविद्यालय ने तत्काल महाविद्यालय को अपरिहार्य कारणों से परीक्षा स्थगित करने का आदेश जारी कर दिया। बच्चे समय पर पहुंचने के लिए घरों से निकले बारिश होने के बाद भी भीगते हुए जैसे तैसे करके परीक्षा सेंटर तक पहुंचें लेकिन बच्चों को नहीं पता था की परीक्षा देने की बजाय उन्हें स्थगित होने के आदेश मिलेंगे। समस्त विद्यार्थियों ने कहा कि शेखावाटी विश्वविद्यालय ने परीक्षाओं को मजाक बना दिया। आम विद्यार्थियों के साथ परेशानियों का घड़ा फोड़ दिया।
जब परीक्षा निरस्त होती है तो सूचना पहले दी जाती है जब विद्यार्थी केंद्र पर पहुंचते ही परीक्षा स्थगित होती है यह बहुत ही निंदनीय बात है। इस तरह के तत्काल स्थगित आदेश विद्यार्थियों के मानसिक तनाव बढ़ाने का कारण बन गया। गौरतलब है कि झुंझुनू के राजकीय महाविद्यालय में 31 तारीख को कॉमर्स का पेपर था और जब पेपर खोलें तो एमएससी मैथ का पेपर निकला उसको भी तत्काल प्रभाव से स्थगित किया गया। अगर विश्वविद्यालय द्वारा इस तरह की अनियमितताएं बरती जा रही है तो लगता है कि बच्चों के जीवन के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष विनोद कुमार सैनी ने बताया कि शेखवाटी विश्वविद्यालय ने तत्काल परीक्षा अपरिहार्य कारणों से स्थगित करने के आदेश जारी किए। जिससे परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को काफी परेशानी हुई है। परीक्षा स्थगित होने की सूचना पूर्व में ही दी जाती तो बच्चों को परेशानी नहीं होती। आए दिन विश्वविद्यालय में अनियमितताएं सामने आ रही है। जिससे बच्चों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।



Previous Post Next Post
  विज्ञापन…