पुलिस की लापरवाही@ पाटन थाने से हत्या का आरोपी सुभाष गुर्जर हुआ फरार, पुलिसकर्मी ने करवाया मामला दर्ज

नीमकाथाना। पाटन पुलिस थाने से एक हत्या के मामले में एक आरोपी फरार हो गया। आरोपी फरार होने के बाद पुलिस ने चारों तरफ नाकाबंदी करवाई लेकिन आरोपी का कोई सुराग नही लग सका। वही पुलिस भी मामले को दो दिन तक दबाए रखा। जानकारी अनुसार पाटन थाने में रैया का बास में युवक की गोली मारकर हत्या के मामले में रविवार को आरोपी सुभाष पुत्र नाथूराम गुर्जर को पुलिस पूछताछ के लिए थाने लाई थी। जहां उसे एक सिपाही की निगरानी में रखा गया था।आरोपी सिपाही को धक्का मारकर थाने से फरार गया। तब से पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है। लेकिन दो दिन की नाकाबंदी व कई जगह दबिश देने पर भी पुलिस अबतक आरोपी का सुराग नहीं लगा पाई है।

15 जून को की थी हत्या
रैला निवासी सुभाष गुर्जर पर रैया के बास के बजरंग उर्फ भजिया की हत्या का आरोप है। 25 वर्षीय बजरंग राजू रैला की हत्या का आरोपी था। जो जमानत पर रिहा था। 15 जून को जब वह गांव में ही नहर किनारे बैठा था। इसी दौरान दो बाइक पर सवार होकर आए बदमाशों ने उस पर गोलियां चला दी थी। कनपटी व सीने में गोली लगने पर बजरंग गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसने कोटपूतली रेफर करते समय रास्ते में ही दम तोड़ दिया था। घटना की जांच करते हुए पुलिस ने सात आरोपियों को हिरासत में लिया था। इसी मामले में सुभाष गुर्जर को भी हिरासत में लिया था। जहां गिरफ्तारी दिखाने से पहले ही वह फरार हो गया।

कांस्टेबल ने दर्ज करवाया मुकदमा
घटना को लेकर सिपाही विकास कुमार ने आरोपी सुभाष के खिलाफ पाटन थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है। जिसमें बताया कि थानाधिकारी पुलिस टीम के साथ 20 जून को रात 9 बजकर 50 मिनट पर आर्म एक्ट में वांछित आरोपी सुभाष गुर्जर को गिरफ्तार कर लाए थे। जिसको सिपाही विकास की निगरानी में सुरक्षित बैठाया गया था। पांच मिनट बाद ही आरोपी ने सिपाही को धक्का मारकर गिरा दिया और पुलिस थाने के मुख्य गेट के रास्ते फरार हो गया। सिपाही के चिल्लाने पर थाने में मौजूद पुलिस ने उसका पीछा भी किया। लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर वह भाग गया। घटना में सिपाही के बांये कोहनी में चोट आई। आरोपी के खिलाफ राजकार्य में बाधा सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

गिरफ्तारी से पहले फरार
जानकारी के अनुसार फरार आरोपी सुभाष को पूछताछ के बाद पुलिस गिरफ्तार करने की तैयारी में ही थी। इसी बीच बिजली चली गई। इस पर पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए बिजली आने का ही इंतजार कर रही थी। इसी बीच वह मौका पाकर भाग छूटा।
Previous Post Next Post