नीमकाथाना@कस्बे के नीम का थाना रोड पर 132 केवी जीएसएस के सामने चारागाह भूमि पर चार दिवारी लगाकर किए गए अतिक्रमण को आज राजस्व टीम जेसीबी मशीन लेकर हटाने गई तो महिलाओं द्वारा किए गए विरोध के चलते बीच में ही कार्यवाही छोड़कर लौटना पड़ा। अतिक्रमण स्थल से महज ढाई सौ से तीन सौ मीटर की दूरी पर स्थित उप तहसील कार्यालय में बैठे नायब तहसीलदार ने अतिक्रमण हटाने गए पटवारियों की मदद करना भी उचित नहीं समझा। नीम का थाना रोड पर कई जगह सरकारी भूमि पर लोगों ने कच्चा पक्का अतिक्रमण कर कब्जा कर रखा है, जिसकी कई बार प्रशासन को शिकायतें भी की गई है। उसके बावजूद भी प्रशासन द्वारा बेशकीमती जमीन पर किए गए अतिक्रमण को हटाने में नाकाम रही है।

नीमकाथाना रोड पर सरकारी भूमि पर किए गए अवैध अतिक्रमण को लेकर हल्का पटवारी टिंकू मीणा  द्वारा धारा 91 के तहत नायब तहसीलदार के न्यायालय में परिवाद पेश किया गया जिस पर न्यायालय ने कब्जा हटाकर भूमि को कब्जा राज्य सरकार के नाम करने के आदेश दिए थे। न्यायालय के आदेशों की पालना में आज मंगलवार करीब 12:00 बजे हल्का पटवारी टिंकू मीणा और नरेश यादव की टीम जेसीबी मशीन लेकर कब्जा हटाने पहुंची तो कब्जा करने वालों ने महिलाओं को जेसीबी मशीन के सामने खड़ा कर दिया तथा महिलाएं कहने लगी कि पहले आप अन्य लोगों का अतिक्रमण हटाए उसके बाद में आप हमारा अतिक्रमण हटाना।
महिलाओं ने प्रशासन पर भेदभाव का आरोप भी लगाया। पटवारियों ने महिलाओं के साथ काफी समझाइश भी की, परंतु महिलाएं जेसीबी मशीन के सामने से नहीं हटी तो टीम को कार्यवाही बीच में ही छोड़नी पड़ी और टीम को वापस लौटना पड़ा। इस दौरान नायब तहसीलदार कुंदन लाल अपने कार्यालय में ही बैठे रहे। उन्होंने अपने कर्मचारियों की कोई मदद नहीं की। अतिक्रमण हटाने गई पटवारियों की टीम ने पुलिस जाप्ते और उच्च अधिकारियों की मौजूदगी में अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही करने की रिपोर्ट पेश की है।

उप तहसील और पंचायत समिति बनने के बाद चारागाह जमीन पर कब्जे की होड

कस्बे के नीम का थाना रोड पर बाईपास रोड निकलने के बाद उप तहसील कार्यालय और पंचायत समिति कार्यालय भवन बनने के बाद से पिछले 2 सालों से लगातार सड़क किनारे की चारागाह और अन्य सरकारी जमीनों पर कब्जे करने की होड़ लगी हुई है।

दोनों कार्यालयों के आसपास अधिकारियों की आंखों के सामने लोगों ने कब्जे करके कई जगह कच्चे, पक्के निर्माण कर लिए यहां तक बिजली कनेक्शन तक करवा लिया है। अतिकर्मियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि अधिकारियों के सामने ही सरकारी भूमि पर अवैध तरीके से जमीनों पर कब्जा कर उन पर कच्चा पक्का निर्माण कर लेते हैं तथा जब अतिक्रमण हटाने की बारी आती है तो महिलाओं का विरोध होने का बहाना बनाकर बेशकीमती जमीनों को अवैध कब्जे में रहने देने का खेल खेला जा रहा है।

हल्का पटवारी टिंकू मीणा ने बताया कि जब हम अतिक्रमण हटाने पहुंचे तो विरोध करने वाली महिलाएं जेसीबी मशीन के सामने आ गई और कहने लगी जेसीबी मशीन हमारी लाश के ऊपर से ही जाएगी। उनको काफी समझाने का प्रयास भी किया गया जब वे नहीं मानी तो हमें मजबूरन वापस लौटना पड़ा।

नायब तहसीलदार कुंदन लाल का कहना है कि उपखंड अधिकारी के निरीक्षण कार्यक्रम के चलते मौके पर नहीं पहुंच पाया। इसके लिए जल्द ही पुलिस जाब्ते के साथ कार्यवाही कर चारागाह भूमि से अतिक्रमण हटाया जाएगा।


Test link