नीमकाथाना न्यूज़ के लक्की में ड्रा भाग लें

News Update

कांवट में दुष्कर्म बालिका की मौत के बाद ग्रामीणों में आक्रोश, शव रखकर थोई थाने का घेराव कर किया विरोध प्रदर्शन, कांवट पूर्णतयाबन्द

नीमकाथाना@कांवट में 27 फरवरी को बलात्कार व हत्या की शिकार मामले में 14 वर्षीय पीडि़ता की बीती शाम जयपुर में उपचार के दौरान मौत के बाद ग्रामीणों का आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। कांवट कस्बे के बंद की घोषणा के साथ ग्रामीण आज सुबह ही थोई थाना पहुंचकर बालिका का शव रखकर धरने पर बैठे हैं।
धरने पर बैठे पूर्व चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री बंशीधर खंडेला सहित अनेक संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद हैं।  प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता विफल होने के साथ प्रदर्शनकारियों की मांग भी बढ़ती जा रही है। प्रदर्शनकारी परिजनों के लिए जहां पहले 20 लाख रुपये की मांग कर रहे थे, वह बढ़कर एक करोड़ की हो गई है। साथ ही आरोपी को कड़ी सजा देने के साथ थोई थाना एसएचओ सहित समस्ट स्टाफकर्मियों के निलंबन की मांग भी लगातार की जा रही है।
सूचना पर एसडीएम लक्ष्मीकांत गुप्ता और एएसपी दिनेश अग्रवाल सहित कई अधिकारी उन्हें समझाने में जुटे हैं। लेकिन, प्रदर्शनकारी मांग पूरी नहीं होने तक आंदोलन जारी रखने की बात पर अड़े हैं। शव के साथ प्रदर्शन ग्रामीणों का प्रदर्शन सुबह दस बजे शुरू हो गया था। तब से प्रदर्शनकारियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जयपुर में दोपहर बाद पोस्टमार्टम के बाद मृतक बालिका का शव भी थोई थाने ही ले जाया गया। जहां दो मिनट के मौन के बाद प्रदर्शनकारी फिर धरने पर बैठ प्रदर्शन करने लगे। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि उच्च अधिकारियों को बुलाकर उनकी मांग तुरंत मानी जाये, वरना आंदोलन उग्र किया जा सकता है।
आरोपी युवक घर से कार लेकर आया। रिश्तेदार उसकी कार में ही उसे सीएचसी लेकर पहुंचे। वहां से पीडि़ता को रैफर कर दिया गया। इसके बाद उसे रींगस लेकर गए। वहां पर पीडि़ता के मां-पिता भी पहुंच गए। परिजन उसे एंबुलेंस से जयपुर जेके लॉन अस्पताल लेकर पहुंचे। इस दौरान बसंत भी गाड़ी लेकर उनके साथ जयपुर पहुंचा। बलात्कार की बात सामने आने के बाद आरोपी फरार हो गया।पुलिस ने यों बरती लापरवाही पीडि़ता के पिता ने पहले एसएमएस चौकी में सुसाइड किए जाने की सूचना दी थी, लेकिन पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया। बाद में चिकित्सकों ने पीडि़ता से बलात्कार किए जाने की बात कही। उन्होंने रिपोर्ट दर्ज करवा मेडिकल करवाने की बात भी कही। चिकित्सकों ने 30 जनवरी को पुलिस कंट्रोल रूम जयपुर को सूचना भेजी। जयपुर कंट्रोल रूम से सीकर कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। 30 को ही सूचना मिलने के बाद थोई पुलिस 31 जनवरी  को जयपुर पहुंची। आरोपी को पुलिस ने दुष्कर्म बालिका की मौत के बाद ग्रामीणों में आक्रोश बढ़ते देख कर गिरफ्तार किया।
header ads