नीमकाथाना-राष्ट्रीय पोषण मिशन के अन्तर्गत सुपोषण दिवस एवं राष्ट्रीय कृमि-मुक्ति दिवस के अवसर पर सम्पूर्ण ब्लॉक में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। मुख्य कार्यक्रम आंगनबाड़ी केन्द्र सिरोही-ई पर आयोजित किया गया। ब्लॉक कॉर्डिनेटर अंशुल श्रीवास्तव ने इस अवसर पर धात्री माताऐं व उनके पति, गर्भवती महिलाऐं, स्वयं सहायता समूह, महिला मण्डल आदि समुदाय के सदस्यों को आंगनबाड़ी केन्द्र, पौष्टिक आहार एवं स्वास्थ्यवर्धक भोजन के महत्व, प्रसव पूर्व जाँच की आवश्यकता, गर्भावस्था के दौरान आयरन फौलिक एसिड की गोली लेने का महत्व, गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ना, नियमित वृद्धि की निगरानी का महत्व पूरक आहार की मात्रा एवं असर कारक आहार पर चर्चा की।
आंगनबाड़ी केन्द्र सिरोही-ई पर कार्यक्रम आयोजित 
सीडीपीओ संजय चेतानी ने उपस्थित जन-समुदाय से बच्चों की आंत में कीड़ों के संक्रमण से होने वाले हानिकारक प्रभावों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया क इससे बच्चों में कुपोषण, खून की कमि, भूख न लगना, थकान और बैचेनी, मल में खून आना, पेट में दर्द जैसे लक्षण उत्पन्न होते हैं तथा उपरोक्त सभी समस्याओं के निराकरण के लिए कृमि-नियंत्रण एक प्रभावी उपाय है। बच्चों को कृमि-नियंत्रण हेतु दी जाने वाली दवा एल्बेन्डाजोल पूरी तरह सुरक्षित होती है तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इसे खाली पेट भी लिया जा सकता है। इसके उपरान्त सीडीपीओ ने आंगनबाड़ी केन्द्र सिरोही व कैरोड़ा पर उपस्थित होकर बच्चों को दवा खिलाकर अभियान का शुभारम्भ किया। जो बच्चे बीमार हैं या अन्य किसी कारण से दवाई नहीं ले पाये हैं उन्हें मॉप-अप दिवस 19 अगस्त 2019 को दवाई खिलाई जायेगी।


- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।