... ...

Headlines

बड़ा खुलासा: तो इस वजह से की थी डाबला और शिमला के बैंक में लूट...

तीन जुलाई को डाबला में ग्रामीण बैंक में लूट का मामला

नीमकाथाना न्यूज़- पाटन ग्राम डाबला में तीन जुलाई को ग्रामीण बैंक में फायरिंग कर ढाई लाख रुपए लूटने के मामले में खेतड़ी पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पूछताछ में नया खुलासा हुआ है। पुलिस के अनुसार बैंक में लूट करने वाले तीनों आरोपियों में से राजेश उर्फ लीडरिया अपनी बुआ के लड़के की जय भैंरू बाबा गैंग में टास्क बाय और एक्सपर्ट बाइक राइडर की हैसियत से काम करता था।
बदमाशों ने यह गैंग पार्टनरशिप में बनाई थी। वहीं खेतड़ी के डूमरोली में दोहरे हत्याकांड में फरार चल रहा आरोपी लोकेश गुर्जर भी इसी गैंग के संरक्षण में अपनी फरारी काट रहा था। इस गैंग में काम करने वालों को गैंग के संचालक लूट और चोरी जैसी वारदातों का टास्क देते हैं।

टास्क पूरा होने के बाद उन्हें कुछ हिस्सा देकर बाकी का पैसा खाना खिलाने, हथियार खरीदने और अपने संरक्षण में रखने के नाम पर गैंग संचालक रख लेता था। इस मामले में भी तीनों आरोपियों ने गैंग के संचालक से हथियार खरीदे थे। इसका काफी पैसा वह आरोपियों में मांगता था, लेकिन छोटी- मोटी वारदातों से आरोपी उसका कर्ज नहीं उतार पा रहे थे।

इस पर तीनों ने खेतड़ी इलाके के शिमला गांव के एसबीआई को लूटने की योजना बनाई, लेकिन उस दिन बैंक बंद होने के कारण आरोपी राजेश उर्फ लीडरिया के कहने पर डाबला में लूट की वारदात को अंजाम दिया।

लीडरिया पहले डाबला में ट्रैक्टर मिस्त्री की दुकान पर काम कर चुका है और डाबला के पास ही जीलो गांव में उसका ननिहाल होने के कारण वह क्षेत्र से अच्छी तरह से परिचित है।

आरोपी लीडरिया गैंग में बाइक राइडिंग का एक्सपर्ट माना जाता है और 150 की स्पीड तक बाइक चला लेता है। खेतड़ी पुलिस द्वारा पूछताछ पूरी होने के बाद जल्द ही पाटन पुलिस तीनों आरोपियों को प्रोडक्शन वारंट लाएगी।

No comments