Our Co. Partner- SMP School Kairwali, BulBul E Recharge

Headlines

शहीद सम्मान यात्रा का नीमकाथाना में प्रवेश, शहीदों को देवी देवताओं की तरह पूजना चाहिए- प्रेमसिंह बाजौर


Reporter- मनीष टांक 

नीमकाथाना न्यूज़- जिले में पिछले दिनों से चल रही शहीद सम्मान यात्रा ने शनिवार को नीमकाथाना में प्रवेश कर लिया। यात्रा सर्वप्रथम नेहरू पार्क स्थित शहीद सुनिल कुमार यादव से शुरू हुई। जिसमें सैनिक कल्याण बोर्ड अध्यक्ष व विधायक प्रेमसिंह बाजौर ने कहा कि देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर कर देने जवानों की शहादत को हमेशा यादव रखना चाहिए शहीद एवं उनके परिवारों को मान सम्मान मिलना चाहिए।



बाजौर ने शहीदों को देवताओं के समान मानने की बात कही। उन्होने कहा कि हमें शहीदों को देवताओं के समान मानते हुए उनकी शहादत को धर्म से जोड़कर देवी देवताओं की तरह पूजना चाहिए। हमारे जवानों ने मुश्किल परिस्थितियों में सीमा पर डटे रहकर दुश्मनों को भारत की पावन धरा पर पैर नहीं रखने दिया जिससे भारत की धरा धन्य हैं। जिस गांव में शहीद होता हैं वह गांव भी भाग्यशाली होता हैं।

सम्मान यात्रा में बैठे लोगों ने आग्रह करते हुए कहा कि कोई भी गांव से दुल्हे की बारात रवाना हो तो दुल्हा शहीद की प्रतिमा के सामने धोक लगाए और दुल्हन लेकर आए तो उसे भी यहां धोक लगावाई जावें।

इस दौरान यात्रा में शहीद सुनिल यादव की विरागंना सहित परिवारजनों का सम्मान किया गया साथ ही जोहला जोहड़ा में शहीद होशियार सिंह सामोता की मूर्ति पर मालार्पित की गई एवं शहीद विरागना कविता सामोता का शाॅल उढाकर सम्मान किया गया।



वहीं संसद शहीद जेपी यादव पार्क में प्रतिमा पर मालार्पित कर शहीदों के जयकारे लगाए गए और विरांगना यादव ने बाजौर को पेंशन व अन्य समस्या सम्बधित ज्ञापन सौपा। वहां मौजूद लोगों ने पार्क में असुविधाओं के बारे में अवगत करवाया जिसपर बाजौर ने जल्द से जल्द से दुरस्त करवाने की बात कही।



इसके बाद सम्मान यात्रा खादरा, महावा, गांवड़ी, सालावाली, बिहारीपुर डाबला, पाटन, बलमदासपुरा, हसामपुर, न्यौराणा सहित 15 शहीद परिवारों के घर-घर व मूर्ति स्मारक पर जाकर सम्मान किया। यह यात्रा 30 जून तक पूरी हो जाएगी।

बाजौर ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुधंरा राजे के निर्देशों पर एक टीम का गठन किया गया था। जिसमें प्रेमसिंह बाजौर, रिटायर्ड कर्नल जगदेव सिंह, एवं हर क्षेत्र के सम्बधित अधिकारी है। 22 जिलों यात्रा निकल चुकी हैं। सीकर 23 वों जिला हैं। बाकी बचे जिलों को 30 जून तक पूरा कर लिया जावेगा।

इस दौरान सैनिक क्ल्याण अधिकारी सुरेन्द्र सिंह, पाटन प्रधान संतोष गुर्जर, महेन्द्र गोयल, महेन्द्र सोमानी, नरेन्द्र सिंह शेखावत, तहसीलदार सरदारसिंह गिल, डीप्टी निदेश यादव सहित अनेक लोग मौजूद रहे।


No comments