नीमकाथाना: टोडा क्षेत्र के 12 गांव व चोरासी ढाणियों के इतिहास में पहली बार एक बेटी डॉक्टरबनने जा रही है। इसको लेकर ग्रामीणों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। प्रियंका सोमवार को कोटा से अपने गांव आएंगी।

टोडा ग्राम के 12 गांव 84 ढाणियों में प्रियंका भारती बनी पहली बेटी डॉक्टर
घर की महिलाएं रंगोली सजाते हुए।     फाइल फोटो - नीमकाथाना भास्कर
यहां बेटी के स्वागत के स्वागत के लिए तैयारियाँ चल रही हैं। घर में खुशी का माहौल है महिलाएं रंगोली बनाने में व्यस्त है तो वहीं। ग्रामीण बस स्टैंड से बेटी को डीजे के साथ लाने के लिए उत्सुक हैं।

दरअसल टोडा ग्राम की प्रियंका भारती का कोटा के सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस के लिए चयन हुआ है। प्रियंकानीमकाथाना शहर में वाल्मीकि समाज की ऐसी पहली बेटी होगी जो डॉक्टर बनेगी।

प्रियंका के पिता नागरमल शिक्षण का कार्य करते हैं इन्होने ने बताया कि बिटियां शुरू से ही पढ़ाई में होशियार रही है। उसने दसवीं व बारहवीं की पढ़ाई टोडा के सरकारी स्कूल से की। और अच्छे अंको के साथ उत्तीर्ण हुई थी।

बेटी की उपलब्धि पर वाल्मीकि समाज में काफी उत्साह है। प्रियंका भारती ग्राम पंचायत में बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ अभियान की ब्रांड एंबेसडर है। उसके दादा पूरणमल आज भी बकरी चराते हैं।

रैली में दिया जाएगा बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ का संदेश

प्रियंका के पिता नागरमल ने ये भी बताया कि साेमवार को सुबह बस स्टैंड पर प्रियंका का स्वागत कर सम्मान किया जाएगा। वहां से घर तक DJ के साथ रैली निकाली जाएगी जो गांव मुख्य मार्गों से गुजरेगी। रैली का प्रमुख उद्देश्य लोगों को बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ के लिए जागरूक करना है।

Join Whatsapp Group

नीमकाथाना न्यूज़

The Group Of Digital Neemkathana




- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।