आरएसएस ने विजयादशमी उत्सव मनाकर पथ संचलन किया



नीमकाथाना। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने विजयादशमी उत्सव मनाया। उत्सव में शस्त्र पूजन व पथ संचलन का कार्यक्रम किया गया। नवीन टॉकीज के पास दुर्गा माता मंदिर से पथ संचलन शुरू होकर गणगौर चौक, खेतड़ी मोड़, भूडोली रोड, पुराना बाजार, बंका रोड होते हुए शाहपुरा रोड, सुभाष मंडी, रामलीला मैदान, कपिल मंडी से पुनः गणगौर चौक होते हुए नृसिंह मंदिर पर समापन हुआ। पथ संचलन से पूर्व संघ ने शस्त्र पूजन का कार्यक्रम रखा। कार्यक्रम में बोपिया धाम से संत भरत नाथ संप्रदाय ने आशीर्वचन कहे। आशीर्वचन में उन्होंने कहा कि भगवान राम की इस भूमि पर  वनवासियों का संगठन करते हुए आसुरी शक्ति पर विजय प्राप्त की थी। आज के समय भी सज्जन शक्ति को एक होकर के आसुरी शक्ति के  खिलाफ लड़ना है। मुख्य वक्ता के रूप  में बृजमोहन प्रांत प्रौढ़ कार्य सह प्रमुख रहे। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि राष्ट्रीय शिक्षक संघ की स्थापना हिंदू समाज को एक करने के लिए हुई है संघ का उद्देश्य हिंदू समाज में संगठन खड़ा करना नहीं है बल्कि हिंदू समाज को संगठित करना है। आज के दिन पथ संचलन निकालकर  बाजार से निकलते हैं तो समस्त हिंदू समाज में एक जागृति और उत्साह का वातावरण होता है हमें अभी और कार्य करना है संघ की शाखाओं को बढ़ाना हमारा उद्देश्य होना चाहिए। कार्यक्रम में जिला संघचालक कैलाश बोपिया उपस्थित रहे।
आज के कार्यक्रम में सह गीत शंकर चेतानी, काव्य गीत पंकज टेलर, अवतरण हेमंत का रहा। संचालन का मुख्य आकर्षण संघ का घोष रहा। संघ के घोष प्रमुख प्रवीण सोनी के नेतृत्व में 9 घोष वादकों ने  सुर और ताल देकर संचरण को संगीतमय बनाया। संचलन के मुख्य शिक्षक  विष्णु रहे। पथ संचलन का सुभाष मंडी , कपिल मंडी सहित अनेक स्थानों पर महिलाओं व अन्य सामाजिक संगठनों द्वारा पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया।
Previous Post Next Post