नीमकाथाना। सिरोही कस्बे आए दिन बंदरो का आतंक रहता है। समस्या को लेकर ग्रामीणाें ने कई बार प्रशासन के सामने गुहार लगाई लेकिन समस्या दुरूस्त नही हो सकी। जिसके चलते गुरुवार को आगवाडी रोड़ वार्ड15  निवासी अंजु देवी पत्नी रामस्वरूप चावरियाँ अपने घर छत पर कपड़े सूखा रहीं थीं तभी  बन्दरों की टोली ने उनके उपर हमला बोल कर दिया उनके कपड़े फाड़ दिए और छत से गिरा दिया।जिसमें अंजु देवी गंभीर घायल हो गई। आवाज सुन पड़ोसियों ने सिरोही प्राथमिक अस्पताल ले गए वहॉं से प्राथमिकता उपचार के उपरांत राजकीय कपिल  अस्पताल में रेफर कर दिया गया। अस्पताल में डॉक्टर नहीं मिलने के कारण निजी अस्पताल में इलाज कराना पड़ा।  गरीब परिवार होने से पीड़िता के पति रामस्वरूप वाल्मीकि ने प्रशासन से मदद की भी गुहार लगाई है। गौरतलब है कि समस्या को लेकर ग्रामीणाें ने कई बार प्रशासन को भी अवगत करवा दिया। ग्रामीणाें का कहना है कि बंदरो के कारण गर्मी के मौसम में भी लोग छतो पर जाने से कतराते हैं आये दिन बंदर घर मे घुसकर सामान को बिखेर जाते है और कपड़ो को फाड़ जाते है। ग्रामीण जब उन्हे भगाते है तो बंदर उनको काटने को दौड़ते है। बंदरो के आतंक को लेकर विनय कुमार धरड़ ने राजस्थान संपर्क पोर्टल पर 18 सितंबर 2014 को प्रकरण दर्ज करवाया था जिसपर समाधान के बजाए शिकायत को एक विभाग से दूसरे विभाग भेजा जाता रहा उसके बावजुद भी इस समस्या को लेकर 5 साल बीत गये मगर समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई हैं। ग्रामीणाें ने प्रशासन से मांग की है कि जल्द से जल्द इस समस्या से निजात दिलाये इन बंदरो को पकड़कर काई धार्मिक स्थान पर छोड़ा जाये।

विज्ञापनविज्ञापन के लिए संपर्क करें- 9079171692,7568170500

Join Whatsapp Group

नीमकाथाना न्यूज़

The Group Of Digital Neemkathana




- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।