दिल्ली की कंपनी से ठगी का शिकार होने के बाद आरोपी ने खुद खोली चिटफंड कंपनी, हजारों लोगों को बनाया शिकार

स्पेशल रिपोर्ट:- मनीष टांक
नीमकाथाना। कोतवाली थाने में धोखाधड़ी कर रुपए हड़पने को लेकर पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया था जिसपर दो दिन के पीसी रिमांड पर भेजा गया था। जानकारी के अनुसार सुमित्रा सैनी पत्नी रोहिताश सैनी वार्ड नंबर 24 छावनी ने कोतवाली थाने में 23 दिसंबर 2020 को दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि नवम्बर 2019 से केबीसी 64. कॉम नाम कि संस्था कार्यालय गांवड़ी मोड पर खोला था। जिसका एमडी रमेश जांगिड़ व बीडीएम मनोज जांगिड़ थे। उन्होंने कन्या की शादी में 11 सो रुपए लेकर फॉर्म भरवाने के लिए कहा था कि कन्या की शादी में 11 हजार से 51 हजार की राशि का चेक नगद राशि देने का वादा किया गया था। इस प्रकार मैने लगभग 200 फॉर्म भरवाए थे। सभी को चैक दिए गए लेकिन आज दिनांक 23 दिसंबर तक जितने भी चेक दिए गए जो आज तक किलियर नहीं हुए। बार-बार कहने के बावजूद उन्होंने दिलासा दिया। कहा कि सबका काम हो जाएगा लेकिन लॉक डाउन की स्थिति आने के कारण मिलना जुलना कम हो गया इसका फायदा उठाकर रात को कार्यालय को बंद करके चला गया। जिसकी शिकायत हमने प्रधानमंत्री कार्यालय में भी शिकायत की थी लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। जिसपर कोतवाली थाने में रमेश जांगिड़ व मनोज जांगिड़ के खिलाफ धोखाधड़ी को लेकर धारा 420, 406 भादस में दर्ज किया गया। जिसपर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच में जुटी।
पाटन थाने में गाड़ी देने से इंकार करने पर हुआ था मामला दर्ज
जानकारी के अनुसार केबीसी. 64 काॅम कम्पनी चलाने वाले पर 13 दिसंबर को पाटन थाने में अशोक कुमार सैनी निवासी झालरा ने रमेश पुत्र चेताराम जाति जांगिड उम्र 28 साल निवासी मुरारीपुर थाना नांगल चोधरी जिला महेन्द्रगढ हरियाणा के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। रिपोर्ट में लिखा है कि रमेश जांगिड ने नीमकाथाना में केबीसी.64 काॅम कम्पनी बना रखी थी जिसमें रमेश को गाडी आवश्यकता थी जिसको लेकर रमेश ने अशोक कुमार सैनी निवासी झालरा से सम्पर्क किया तथा चोला मण्डलम फाईनेंस कम्पनी से फाईनेंस पर गाडी लेने की बात कही और यह भी कहा कि मै खर्चे के तौर पर महिने में रूपये भी देता रहूंगा। हुंडई की आई 10 गाडी नं. आरजे 23 सीडी 1629 निकलवाकर रमेश को दे दी। इस पर रमेश ने लाॅकडाउन से पहले तीन किश्ते जमा कराई तथा लाॅकडाउन होने पर मुझे गाडी वापस देदी। सितम्बर माह में पीड़ित अशोक को फोन पर रमेश जांगिड का फोन आया और एक दो दिन कार्य हेतु मुझसे गाडी मांगी तो मेने उसे दे दी परन्तु जब गाडी वापस मांगी तो देने से इनकार कर दिया तथा गाडी की किश्तें जमा कराना भी बंद कर दिया। इस पर पुलिस ने रमेश जांगिड के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है। 
*पाटन थाने में मुकदमा दर्ज होने के बाद हुए अन्य मामले दर्ज*
जानकारी के मुताबिक रमेश जांगिड पर केबीसी.64 काॅम कम्पनी के तहत महिलाओं के साथ ठगी के आरोप में मधु कंवर निवासी नीमकाथाना व संगीता कंवर निवासी रायपुर  पाटन तथा मंजु सैनी निवासी गांवडी मोड व अन्य महिलाओं ने मुकदमा दर्ज करवाया है।
 दिल्ली की कंपनी से ठगी का शिकार होने बाद आरोपी ने खुद की खोली कम्पनी
जानकारी के मुताबिक आरोपी रमेश जांगिड़ अपने दोस्त के साथ दिल्ली में केबीसी 40.कॉम ने एक हजार रुपए लगाए थे। वहां ठगी का शिकार होने के बाद खुद आरोपी रमेश जांगिड़ ने लोगों को ठगने के लिए खुद केबीसी 64. कॉम के नाम से चिटफंड कंपनी खोल ली। जिसमें लोगों को 11सौ रुपए देने के बाद एजेंटों को 400 रूपए देने का लालच दे दिया। जिसमें एजेंटों ने हजारों लोगों को जोड़ किया गया।

एजेंटों को अधिक काम करने पर देता था पारितोषित इनाम
आरोपी रमेश जांगिड़ जिस एजेंट ने अत्यधिक कार्य करने वालों को कम्पनी की तरफ से इलेक्ट्रॉनिक उपकरण देता था जिनका हौसला अफजाई हो जाता था। आरोपी ने करीब 12 एजेंटों को करीब दो से ढाई लाख रुपए के पारितोषित इनाम भी दे दिए।

आरोपी शादी समारोह में सामान व बच्चों को देता था छात्रवृति
एएसआई जगदीश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि आरोपी रमेश ने अपनी कम्पनी में करीब 2 हजार लोगों को जोड़ लिया था जिसमें अधिकतर गरीब लोगों को जोड़ा गया। कई जगहों पर आरोपी ने शादी में कन्यादान में 11 सौ रुपए लेकर 51 सौ से 51 हजार रूपए तक देने व अन्य सामान सहित स्कूलों में बच्चों को छात्रवृति भी दी गई। आरोपी से पूछताछ की गई तो पैसे इकट्ठे करने में खादरा निवासी विक्रम सैनी एवं हरिशंकर का भी संदिग्ध होना सामने आया है। आरोपी को आज न्यायालय पेश किया जाएगा।
लॉक डाउन लगने के बाद कंपनी हुई कंगाल
जानकारी के मुताबिक आरोपी रमेश की कंपनी लॉक डाउन लगने के बाद फैल है गई जिसके चलते गावंडी मोड़ पर स्थित कार्यालय को बन्द कर दिया गया। जिससे लोगों को पैसा नहीं मिलने के बाद खुलासा हुआ।


- ऐसी ही अपने क्षेत्र की ताजा ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए डाउनलोड करें Digital Neemkathana App गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध।