विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें- +91-9079171692, +91-9680820300

News Update

रामनाडा में प्रशासन द्वारा उजाड़ी गई बस्ती को पुनर्वास व घटना में जिम्मेदार दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने कि मांग

नीमकाथाना- नागौर में राजस्व ग्राम रामनाडा में प्रशासन द्वारा उजाड़ी गई बस्ती को पुनर्वास एवं घटना के जिम्मेदार पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों पर कार्रवाई करने को लेकर सोमवार को उपखण्ड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा। ज्ञापन में अवगत करवाते हुए राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव डाॅ. मनीष चौधरी ने बताया कि नागौर में जिला प्रशासन ने गरीब बंजारा समाज की बस्तियो को बरबरता पूर्व प्रशासन नागौर द्वारा पुलिस पुलिस के साथ मिलकर दमनकारी नीति अपना कर उच्च न्यायालय के निर्णय की आड़ में आजादी से पूर्व स्थापित गरीब लोगों की बस्तियों को उजाड़ दिया गया। जिला कलेक्टर, जिला पुलिस अधीक्षक, पुलिस उप अधीक्षक व्रत एवं उपखंड अधिकारी के इशारे पर महिलाओं बुजुर्ग महिलाओं व्यक्तियों तथा बच्चों पर लाठीचार्ज किया गया, जिन व्यक्तियों ने प्रशासनिक कार्रवाई से पूर्व अपना सामान घर से बाहर निकाल कर टांकों व अन्य स्थानों पर रखा उस सामान में बंजारों की नगदी व जेवरात भी थे इसको नागौर उपखंड अधिकारी द्वारा कर्मचारियों के मार्फत व उपखंड अधिकारी के साथ के साथ आए निजी व्यक्तियों के मार्फत उठा लिया गया।
जेसीबी चालक ने पुलिस कार्रवाई से भयभीत होकर पुलिस द्वारा मौके पर सरकारी वाहनों को इधर उधर दौड़ाया गया जिसकी चपेट में आने से उसकी मृत्यु हो गई माननीय विधायकों पर दर्ज करवाए गए हत्या  के झूठे प्रकरण को निरस्त कर पुलिस तथा प्रशासन के द्वोषी अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए साथ ही उजाड़ी गई बस्तियों से प्रभावित बंजारा समाज के लोगों को पुनः स्थापित करने जमीन का आवंटन करके उन्हें पुनर्वास का पैकेज दिया जाए एवं नागौर उपखंड अधिकारी द्वारा बंजारा समाज के महिलाओं के साथ किए गए अभद्र व्यवहार एवं गहने तथा नगदी की लूट के संबंध में उनके खिलाफ प्रथक से मुकदमा दर्ज किया जाए एवं विधायकों के खिलाफ दर्ज उठे मामले को वापस लिया जाए। ज्ञापन देने में जुगलकिशोर, रूबी जाखड़, हरिश देवंदा, सदाम हुसैन, कालू शर्मा, एड़. सुमेर बडसरा, सवाई सिंह, श्रवणसिंह सहित कई लोग मोजूद रहे।