ग्रामीणों ने आंदोलन करने व चुनावो का बहिष्कार करने की दी चेतावनी
सिरोही से महेश शर्मा की रिपोर्ट✍️✍️✍️
सिरोही- सिरोही ग्राम पंचायत एक राजस्व ग्राम था जिसमे तीन राजस्व ग्राम बनाये गये है। तेतरवालो का बास आबादी 1250 कुडालिया आबादी 600, चरण सिंह नगर आबादी 850 के अलग राजस्व ग्राम बना दिये है। यह तीनो राजस्व ग्राम ग्राम पंचायत बनने लायक नही है ग्राम पंचायत बनने के लिए 4000 की आबादी होनी जरूरी है। इन तीनो राजस्व ग्रामाो को किसी अन्य ग्राम पंचायतो मे जोड़ जायेगा। सिरोही ग्राम पंचायत मे 9000 मतदाता है ग्रामीणो ने आरोप लगाया है कि राजस्व ग्राम बनाने मे कोई सहमती नही ली गयी। रविवार को तेतरवालो के बास के ग्रामीणो ने सिरोही ग्राम पंचायत मे जोड़ने के लिए कहा है।
ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया
अगर तेतरवालो के बास अन्य दूसरी ग्राम पंचायत मे जोड़ा गया तो इसके लिए ग्रामीणो आंदोलन करने के लिए तैयार है जरूरत पड़ी तो ग्रामीण रोड़ पर भी आ जायेगे। इसलिए प्रशासन से ग्रामीणो ने मांग की है कि तेतरवालो के बास को सिरोही ग्राम पंचायत मे ही रखा जाये। इसके लिए आज दर्जनो ग्रामीणो ने प्रदर्शन किया हैं। जिसमे पुर्व सरपंच विरेन्द्र यादव, जिला अध्यक्ष भारतीय किसान युनियन सीकर गोरधन सिंह तेतरवाल, पंचायत समिति प्रतिनिधि लीलाधर काजला, सहकारी समिति अध्यक्ष मनीराम लांबा, गुलझारी लांबा, पुर्व पंच गिरधारी लांबा, पंच बीरबल चाहर, बंशीकाजला, किशोर तेतरवाल, झाबर सामोता, घासीराम चाहर, रामजीलाल लांबा, गजराज सिंह गढवाल, हरसाय जाखड़, रामप्रसाद बोरान , जगदीश तेतरवाल, कालूराम , मदन काजला, माडूराम जाखड़, महेन्द्र लांबा, रामसहाय लांबा, हनूमान शेखावत, माड़ूराम लाठर सहित अनेक ग्रामीण प्रदर्शन मे उपस्थित रहे।