नीमकाथाना की हर खबर सिर्फ नीमकाथाना न्यू.इन पर...

Headlines

डाबला बैंक लूट चुके बदमाश झुंझुनूं में 3.10 लाख रुपए लूटकर बाइक पर भागे, पीछा कर रही पुलिस पर किए चार फायर, तीनों ही पकड़े गए

खुलासा: बदमाशों से दो पिस्टल, 1 देसी कट्टा व 3 कारतूस जब्त, हरियाणा के दनचोली से दबोचा, वीरेंद्र गोठड़ी गैंग से जुड़े है

नीमकाथाना न्यूज़- बाइक सवार तीन नकाबपोशों ने मंगलवार सुबह फिल्मी स्टाइल में फायरिंग करते हुए शिमला में एसबीआई शाखा से 3.10 लाख रुपए लूट लिए। ग्रामीणों ने पीछा किया तो हवाई फायर करते हुए बाइक पर भाग गए। पुलिस ने नाकाबंदी कराई और हरियाणा से लगती सीमा को सील कर दिया। पीछा कर रही खेतड़ी पुलिस पर भी लुटेरों ने चार फायर किए।




आखिर वारदात के आधे घंटे में ही पुलिस ने लुटेरों को हरियाणा के दनचोली में दबोच लिया। आरोपियों से दो पिस्टल, एक देसी कट्टा, एक चाकू, तीन कारतूस व बाइक जब्त कर की है। बैंक से लूटी गई राशि भी बरामद कर ली गई। लुटेरों से जब्त बाइक भी पिलानी से लूटी गई थी।

पुलिस के मुताबिक आरोपियों में एक सिंघाना के डूमोली खुर्द का लोकेश है, दो आरोपी हरियाणा के रूपसराय नांगल चौधरी गांव के राजेश कुमार गुर्जर व राजेश गुर्जर हैं। बैंक कर्मचारियों एवं प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सुबह 10:54 बजे अपाचे बाइक पर तीन नकाबपोश युवक आए।

इनमें से दो युवक बैंक के अंदर घुसे। तीसरे युवक ने बैंक की छत जाकर हवाई फायर किए। बैंक मैनेजर विजय सिंह व गार्ड भवानी सिंह कैश लाने एसबीआई बैंक खेतड़ी गए हुए थे। लुटेरों ने बैंक के अंदर भी पिस्टल से फायर किए।

 कैशियर कमरे का दरवाजा बंद करके लेन-देन का काम कर रहा था। युवकों ने दरवाजा तोड़ दिया और फायर किया। कैशियर वीरेंद्र जांगिड़ की कनपटी पर रिवॉल्वर तान कर सारी नकदी लूट ली। वारदात के दाैरान लुटेरों ने 10 से 15 फायर किए और अपाचे बाइक से दूधवा की ओर भाग गए।

महज पांच मिनट में वारदात को अंजाम दिया। बैंक के पास ही रहने वाले पूर्वप्राचार्य नरेंद्र सिंह घर से बाहर चारपाई पर बैठे थे। नकाबपोशों को भागते देख उन्होंने चारपाई उनकी ओर फेंकी, लेकिन युवक भागने में कामयाब हो गए।

बदमाश ने कनपटी पर पिस्टल लगा पूछा-कैश कितना है : कैशियर

कैशियर वीरेंद्र कुमार ने बताया कि मैं कैश रूम में बैठा था। दो युवक जिनकी उम्र करीब 25-30 साल थी, उन्होंने मुंह पर सफेद कपड़ा बांधा हुआ था, दोनों ही फायरिंग करते हुए कैश रूम की तरफ आ गए। अंदर आता देख कुंदी लगा ली, लेकिन लात-घूसे मारकर कुंदी को तोड़ दिया।

मेरी कनपटी पर पिस्टल लगा दी और पूछा की कैश कितना है तो मैंने तीन लाख बताया। फिर पूछा और कैश कहां हैं तो मैंने कहा कि अभी आया नहीं। जल्दी बता नहीं तो गोली मार दी जाएगी। इसके बाद कैश उठाया और भाग गए। इस बीच उनका मुकाबला फौजी संदीप से हुआ।

No comments