विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें- +91-9079171692, +91-9680820300

News Update

लूट ने उलझाया : पुलिस तय नहीं कर पा रही सच्चा कौन-पीड़ित या जिन पर आरोप

चांदी कारीगर बोला-बोसाणा में कार में आए तीन युवकों ने 72 हजार की चांदी व 28 हजार लूट लिए, युवक बोले-आरोप गलत, बोसाणा में कार ही नहीं रोका। 

सीकर- चांदी कारीगर से लूट के एक मामले में पुलिस शनिवार को रात तक उलझी रही। कंट्रोल रूम को शनिवार दोपहर करीब तीन बजे सूचना मिली कि बोसाणा में बाइक सवार चांदी कारीगर को कार सवार तीन बदमाशों ने लूट लिया है। लोसल व शहर पुलिस आरोपियों की तलाश करने में लग गई।

शाम करीब चार बजे शहर के मोहल्ला कारीगरान में यातायात प्रभारी जगदीश यादव ने कार को पकड़ लिया। कार सवार तीनों युवकों को लोसल पुलिस ले चली गई। पूछताछ में जो तथ्य सामने आए, उसके बाद पुलिस की जांच उलझ गई। लूट हुई या नहीं, परिवादी ने पुलिस को झूठी सूचना दी या सही।

लोसल निवासी आदिल पुत्र मुमताज (21) ने बताया कि वह चांदी का कारीगर है। शनिवार दोपहर लोसल से बाइक लेकर रवाना हुआ, उसे सीकर में चांदी की कटाई के लिए आना था। उसके पास 72 हजार रुपए की 1750 ग्राम चांदी और 28 हजार रुपए थे। बोसाणा के पास एक कार में तीन लोग सवार होकर आए। कार सवारों ने उसकी बाइक को रोक लिया। एक युवक ने उससे 10 हजार रुपए देने के लिए कहा। उसने मना किया तो दोनों युवकों ने जबरदस्ती उसकी बनियान के नीचे छिपाकर रखी चांदी और उसकी जेब से 28 हजार रुपए निकाल लिए।

उसके बाद युवक कार लेकर सीकर की तरफ भाग गए। युवकों ने उसका मोबाइल नहीं छीना। बाद में आदिल ने फोन कर बड़े भाई आरिफ को लूट के बारे में बताया। इधर, कांसली होकर कार सवार युवक जब सीकर की तरफ भागने लगे तो रिश्तेदारों ने कार को देखकर उसका पीछा किया।

वहीं, सीकर में यातायात पुलिस ने क्विड कार के नंबर आरजे 23 सीबी 8882 के आधार पर छानबीन शुरू कर दी। मोहल्ला कारीगरान में यातायात पुलिस ने कार को नंबरों के आधार पर रोक लिया। इतने में पीछा करते हुए कांसली से परिचित भी मौके पर आ गए।

तीनों युवकों के खिलाफ सबूत नहीं मिले, कारीगर भी बता नहीं पा रहा उसके पास चांदी आई कहां से ? 
पुलिस मामले में नागौर के तीन युवकों कादर खान, विनाेद सिंह राजपूत व रामनिवास को हिरासत में लिया। युवकों की तलाशी में पुलिस को 14300 रुपए बरामद हुए हैं।

एक युवक रामनिवास जाट ने बताया कि विनोद सिंह उसका ट्रक ड्राइवर है। जिसका पिछले दिनों पैर टूट गया था। वह अपने दोस्त कादर के साथ विनोद सिंह को सीकर में इलाज कराने के लिए लेकर आ रहे थे। उन्होंने बोसाणा में कार को रोका तक नहीं, वारदात करना दूर की बात है। पुलिस को संदेह इसलिए भी है कि चांदी कारीगर आदिल पुलिस को बता नहीं पाया कि चांदी उसके पास कैसे आई। लोसल थानाधिकारी अभय सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है।