Our Co. Partner- SMP School Kairwali, BulBul E Recharge

Headlines

जोधपुर के बारे में जानकारी, मेहरानगढ़ किले का इतिहास | History Of Jodhpur Mehrangradh Fort

जोधपुर के बारे में जानकारी, मेहरानगढ़ किले का इतिहास | History Of Jodhpur Mehrangradh Fort

स्पेशल रिपोर्ट- नीमकाथाना न्यूज़ टीम

जोधपुर का नाम सुनते ही मन में एक रोमांच की लहर दौड़ पड़ती है। यह बहुत ही लुभावना सुंदर सा शहर है, जहां हर जगह तेजस्वी नीले घर हैं। ‘ब्लू सिटी’, जिसे ‘सन सिटी’ भी कहा जाता है, रंगीले राजस्थान के इतिहास में जोधपुर अपनी अहम् भूमिका रखता है। इसके अंदर शानदार मेहरानगढ़ किला, शहर के ऊपर स्थित टॉवर एक शानदार वास्तुशिल्प कृति जो इस शहर को और भी ख़ास बना देते हैं। इस किले के आस-पास पुराना शहर है, भटकने वाली गलियों का आनंदमय तालमेल और चमकदार बाजार है।

Image source- Google images

जोधपुर इतिहास राठौड़ कबीले के आसपास घूमता है राठौड़ कबीले के प्रमुख राव जोधा को भारत में जोधपुर की उत्पत्ति का श्रेय दिया जाता है। उन्होंने 1495 में जोधपुर की स्थापना की। शहर का नाम उसके बाद ही दिया गया। इसे पहले मारवार के रूप में जाना जाता था अफगानों द्वारा राठौर्स को अपनी मूल देश की कौनाज से निकाल दिया गया था।

Image source- Google images

वे वर्तमान में जोधपुर के पास, पाली से भाग गए राठौर सियाहा ने एक स्थानीय राजकुमार की बहन से शादी की इससे राठौर्स को इस क्षेत्र में खुद को स्थापित और मजबूत करने में मदद मिली। कुछ समय में उन्होंने मंदौर के प्रतिहारों को केवल 9 किमी जोधपुर में छोड़ दिया। प्रारंभ में, मंदोर ने अपनी राजधानी के रूप में सेवा की, लेकिन 1459 तक, राठौर्स ने एक सुरक्षित पूंजी की आवश्यकता महसूस की। इससे जोधपुर, सन सिटी, राव जोधा द्वारा बनाया गया है।

मेहरानगढ़ किले का इतिहास |  Mehrangarh Fort History
Image source- Google images

राठौड़ वंश के मुख्य राव जोधा को भारत में जोधपुर के निर्माण का श्रेय दिया जाता है। 1459 में उन्होंने जोधपुर (प्राचीन समय में जोधपुर मारवाड़ के नाम से जाना जाता था) की खोज की थी। रणमल के 24 पुत्रो में से वे एक थे और 15 वे राठौड़ शासक बने। सिंहासन के विलय के एक साल बाद, जोधा ने अपनी राजधानी को जोधपुर की सुरक्षित जगह पर स्थापित करने का निर्णय लिया, क्योकि उनके अनुसार हजारो साल पुराना मंडोर किला उनके लिये ज्यादा सुरक्षित नही था।

Image result for rao jodha
Rao Jodha
भरोसेमंद सहायक राव नारा (राव समरा के बेटे) के साथ, मेवाड़ सेना को मंडोर में ही दबा दिया गया। इसी के साथ राव जोधा ने राव नारा को दीवान का शीर्षक भी दिया। राव नारा की सहायता से 1 मई 1459 को किले के आधार की नीव जोधा द्वारा मंडोर के दक्षिण से 9 किलोमीटर दूर चट्टानी पहाड़ी पर रखी गयी। इस पहाड़ी को भौर्चीरिया, पक्षियों के पहाड़ के नाम से जाना जाता था।

मेहरानगढ़ किला राजस्थान के जोधपुर में स्थित है और भारत के विशालतम किलो में इसका समावेश है। यह किला शहर से 410 फीट की ऊँचाई पर स्थित है और मोटी दीवारों से संलग्नित है। इसकी सीमा के अंदर बहुत सारे पैलेस है जो विशेषतः जटिल नक्काशी और महंगे आँगन के लिये जाने जाते है।

Image result for mehrangarh fort hd pic
Image source- Google images

लीजेंड के अनुसार, किले ले निर्माण के लिये उन्होंने पहाडियों में मानव निवासियों की जगह को विस्थापित कर दिया था। चीरिया नाथजी नाम के सन्यासी को पक्षियों का भगवान भी कहा जाता था। बाद में चीरिया नाथजी को जब पहाड़ो से चले जाने के लिये जबरदस्ती की गयी तब उन्होंने राव जोधा को शाप देते हुए कहा, “जोधा! हो सकता है कभी तुम्हारे गढ़ में पानी की कमी महसूस होंगी।” राव जोधा सन्यासी के लिए घर बनाकर उन की तुष्टि करने की कोशिश कर रहे थे।

Image result for mehrangarh fort hd pic
Image source- Google images

साथ ही सन्यासी के समाधान के लिए उन्होंने किले में गुफा के पास मंदिर भी बनवाए, जिसका उपयोग सन्यासी ध्यान लगाने के लिये करते थे। लेकिन फिर भी उनके शाप का असर आज भी हमें उस क्षेत्र में दिखाई देता है, हर 3 से 4 साल में कभी ना कभी वहाँ पानी की जरुर होती है।

मेहरानगढ़, राजस्थानी भाषा उच्चार के अनुसार, मिहिरगढ़ बदलकर ही बाद में मेहरानगढ़ बन गया, सूर्य देवता ही राठौड़ साम्राज्य के मुख्य देवता थे। किले का निर्माण वास्तविक रूप से 1459 में राव जोधा ने शुरू किया था, जो जोधपुर के निर्माता थे।

जोधपुर में मेवाड़ के जसवंत सिंह (1638-78) के समय के किले आज भी दिखाई देते है। लेकिन मेहरानगढ़ किला शहर के मध्य में बना हुआ है और पहाड़ की ऊँचाई पर 5 किलोमीटर तक फैला हुआ है। इसकी दीवारे 36 मीटर ऊँची और 21 मीटर चौड़ी है, जो राजस्थान के ऐतिहासिक पैलेस और सुंदर किले की रक्षा किये हुए है।

Image result for tourist place in jodhpur
Image source- Google images

शहर के निचले भाग से ही किले में आने के लिये एक घुमावदार रास्ता भी है। जयपुर के सैनिको द्वारा तोप के गोलों द्वारा किये गये आक्रमण की झलकियाँ आज भी हमें स्पष्ट रूप से दिखाई देती है। इस किले के बायीं तरफ किरत सिंह सोडा की छत्री है, जो एक सैनिक था और जिसने मेहरानगढ़ किले की रक्षा करते हुए अपनी जान दी थी।

किले के अंदर जाने के लिए पार करना पड़ता है सात दरवाजों को

इस किले में कुल सात दरवाजे है, जिनमे जयपाल (अर्थ – जीत) गेट का भी समावेश है, जिसे महाराजा मैन सिंह ने जयपुर और बीकानेर की सेना पर मिली जीत के बाद बनाया था। फत्तेहपाल (अर्थ – जीत) गेट का निर्माण महाराजा अजित सिंह ने मुघलो की हार की याद में बनाया था। किले पर पाए जाने वाले हथेली के निशान आज भी हमें आकर्षित करते है।Image result for mehrangarh fort hd pic
Image source- Google images

मेहरानगढ़ किले में है बेहतरीन म्यूजियम 

मेहरानगढ़ किले का म्यूजियम राजस्थान के बेहतरीन और सबसे प्रसिद्ध म्यूजियम में से एक है। किले के म्यूजियम के एक विभाग में पुराने शाही पालकियो को रखा गया है, जिनमे विस्तृत गुंबददार महाडोल पालकी का भी समावेश है, जिन्हें 1730 में गुजरात के गवर्नर से युद्ध में जीता गया था। यह म्यूजियम हमें राठौर की सेना, पोशाक, चित्र और डेकोरेटेड कमरों की विरासत को भी दर्शाता है।

लोह पोल, यह किले का अंतिम द्वार है जो किले के परिसर के मुख्य भाग में बना हुआ है। इसके बायीं तरफ ही रानियो के हाँथो के निशान है, जिन्होंने 1843 में अपनी पति, महाराजा मान सिंह के अंतिम संस्कार में खुद को कुर्बान कर दिया था।

इस किले के भीतर बहुत से बेहतरीन चित्रित और सजे हुए महल है। जिनमे मोती महल, फूल महल, शीश महल, सिलेह खाना और दौलत खाने का समावेश है। साथ ही किले के म्यूजियम में पालकियो, पोशाको, संगीत वाद्य, शाही पालनो और फर्नीचर को जमा किया हुआ है। किले की दीवारों पर तोपे भी रखी गयी है, जिससे इसकी सुन्दरता को चार चाँद भी लग जाते है।

जानकारी अच्छी लगी तो फ्रेंड्स के साथ शेयर करना न भूलें। 

No comments